आदि शक्ति दुर्गा के नौ स्वरूपों में से भ्रामरी अवतार की रहस्य गाथा

1
96

गवती आदि शक्ति दुर्गा के वैसे तो अनन्त रूप है, अनन्त नाम है, अनन्त लीलाएं हैं। जिनका वर्णन कहने-सुनने की सामर्थ्य मानवमात्र की नहीं है, लेकिन देवी के प्रमुख नौ अवतार है। जिनमें महाकाली, महालक्ष्मी, महासरस्वती, योगमाया, शाकुम्भरी, श्री दुर्गा, भ्रामरी व चंडिका या चामुंडा है। इन नौ रूपों में से आइये जानते हैं हम भ्रामरी अवतार के बारे में-

ADVT

भ्रामरी देवी

पूर्व काल में एक बार अरुण नामक दैत्य की उत्पत्ति हुई उसने देवलोक में अत्याचार करना आरंभ किया देवताओं की स्त्रियों का सतीत्व नष्ट करने का प्रयत्न करने लगा उस महाबली दैत्य से पीड़ित देव पत्नियों ने अपने सतीत्व की रक्षा के लिए भवरों का रूप धारण माता भगवती की स्तुति करने लगी।

यह भी पढ़ें – आदि शक्ति दुर्गा के नौ स्वरूपों में से श्री दुर्गा अवतार की रहस्य गाथा और उनकी प्रसन्नता के मंत्र

उनकी करुण पुकार सुनकर माता ने भ्रामरी का रूप धारण किया और उस महाबली दैत्य के सम्मुख प्रकट हुई, अरुण दैत्य अपनी विशाल दैत्य सेना और अपने बल के घमंड में चूर था। देवी ने उसी समय अरुण को उसकी सेना सहित मारकर देव पत्नियों की रक्षा की तबसे उनका एक रूप भ्रामरी देवी का हुआ।

यह भी पढ़ें –आदि शक्ति दुर्गा के नौ स्वरूपों में से चामुंडा अवतार की रहस्य गाथा और उनकी प्रसन्नता के मंत्र

मान्यता है कि वेग से उड़ने वाले उन भ्रमरों ने दैत्यों के शरीर को छेद डाला। थोडे ही समय में जो देत्य जहाँ था, भ्रमरों द्वारा दी गयी पीड़ा से वहीं मर गया। अरूण दानव भी अपने बचाव में कुछ न कर पाया। उसके सभी अस्त्र-शस्त्र विफल हो गये। तभी से भगवती के इस स्वरुप का पूजन अर्चन हो रहा है, जो परम कल्याण करक है

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here