भैरव तब बने काशी के कोतवाल, उनके दर्शन के बिना काशी विश्वनाथ के दर्शन हैं अधूरे

0
1717

स्कंदपुराण के काशी- खंड के 31वें अध्याय में एक पावन कथा का उल्लेख है, जिसके अनुसार एक समय देवताओं के मन में विचार आया कि आखिर इस जगत में श्रेष्ठ कौन है?, उन्होंने इस बारे में सबसे बारी-बारी पूछा। इसके उत्तर में ही श्रेष्ठता से सम्बन्धित इस पावन कथा का सम्बन्ध है, जो हमें बताता है कि जगतपिता ब्रह्मा के अंहकार को दूर करने के लिए भगवान शिव की क्रोधाग्नि का विग्रह रूप कहे जाने वाले कालभैरव ने उनके पांचवें सिर को कैसे और क्यों काट दिया था? तत्पश्चात शिव के कहने पर भैरव काशी प्रस्थान किये और जहां ब्रह्म हत्या से मुक्ति मिली। रूद्र ने इन्हें काशी का कोतवाल नियुक्त किया।

आइये, अब जानते हैं, स्कंदपुराण की वह पावन कथा, जिस कथा के अनुसार एक समय में देवताओं ने जगतपिता ब्रह्मा जी और जगतपालनकर्ता विष्णु जी से बारी-बारी से पूछा कि जगत में सबसे श्रेष्ठ कौन है? तो स्वाभाविक ही उन्होंने अपने को श्रेष्ठ बताया। देवताओं ने वेदशास्त्रों से पूछा तो उत्तर आया कि जिनके भीतर चराचर जगत, भूत, भविष्य और वर्तमान समाया हुआ है, अनादि अंनत और अविनाशी तो भगवान रूद्र ही हैं। वेद शास्त्रों से शिव के बारे में यह सब सुनकर ब्रह्मा ने अपने पांचवें मुख से शिव के बारे में भला-बुरा कहा। इससे वेद बहुत ही दुखी हुए। इसी समय एक दिव्यज्योति के रूप में भगवान रूद्र वहां प्रकट हुए।

ब्रह्मा ने कहा कि हे रूद्र, तुम मेरे ही सिर से पैदा हुए हो। अधिक रुदन करने के कारण मैंने ही तुम्हारा नाम ‘रूद्र’ रखा है, इसलिए तुम मेरी सेवा में आ जाओ, ब्रह्मा के इस आचरण पर शिव जी को भयानक क्रोध आया और उन्होंने भैरव को उत्पन्न करके कहा कि तुम ब्रह्मा पर शासन करो। उन दिव्य शक्ति संपन्न भैरव ने अपने बाएं हाथ की सबसे छोटी अंगुली के नाख़ून से शिव के प्रति अपमान जनक शब्द कहने वाले ब्रह्मा जी के पांचवे सर को ही काट दिया। इसके बाद शिव के कहने पर भैरव काशी प्रस्थान किये, जहां ब्रह्म हत्या से मुक्ति मिली थी। तब रूद्र ने इन्हें काशी का कोतवाल नियुक्त किया था। अब भी ये भगवान शिव की पावन नगरी काशी के कोतवाल के रूप में पूजे जाते हैं। इनके दर्शन किये बिना विश्वनाथ का दर्शन अधूरा माना जाता है।

यह भी पढ़ें –संताप मिटते है रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग के दर्शन-पूजन से

मान्यता के अनुसार शिव की क्रोधाग्नि का विग्रह रूप कहे जाने वाले कालभैरव का अवतरण मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी को हुआ था। इनकी पूजा से घर में नकारत्मक ऊर्जा, जादू-टोने, भूत-प्रेत आदि का भय नहीं रहता है। काल भैरव के दर्शन मात्र से मनुष्य को नकारात्मकता से मुक्ति मिलती है।

‘काशी कांची चमायाख्यातवयोध्याद्वारवतयपि, मथुराऽवन्तिका चैताः सप्तपुर्योऽत्र मोक्षदाः’;

‘अयोध्या-मथुरामायाकाशीकांचीत्वन्तिका, पुरी द्वारावतीचैव सप्तैते मोक्षदायिकाः।’

यह भी पढ़ें – काशी विश्वनाथ की महिमा, यहां जीव के अंतकाल में भगवान शंकर तारक मंत्र का उपदेश करते हैं

यह भी पढ़ें –अकाल मृत्यु से मुक्ति दिलाता है महामृत्युंजय मंत्र

यह भी पढ़ें – साधना में होने वाली अनुभूतियां, ईश्वरीय बीज को जगाने में न घबराये साधक 

यह भी पढ़ें – यहां हुंकार करते प्रकट हुए थे भोले शंकर, जानिए महाकाल की महिमा

यह भी पढ़ें – जानिए, रुद्राक्ष धारण करने के मंत्र

यह भी पढ़ें – शिव के वे पावन स्थल, जहां पहुंचकर जन्म जन्मांतर के पाप हो जाते हैं नष्ट

Related :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here