छींक के संकेत, अशुभ ही नहीं शुभ भी होती है छींक, जाने कैसे

0
132

छींक आने को आम जनमानस अशुभ ही मानता है, लेकिन ऐसा नहीं है, छींक आने के शुभ व अशुभ दोनों प्रभाव होते है। बस जरूरत होती है, उन संकेतों को समझने की। यदि हम इसे जान लेते हैं, तो भविष्य में होने वाली घटनाओं का सहज ही अनुमान लगा सकते है। कुल मिलाकर यह संकेत होते हैं।

आइये जानते है, छींक के संकेतों को-
1- भोजन से पूर्व भी छींक की ध्वनि अशुभ फल प्रदान करती है। भोजन के अंत में अगर छींक की ध्वनि सुनाई दे तो अगली बार या दूसरे दिन मिष्ठान प्राप्त होता है।
2- सोने से पूर्व और जागने के पश्चात छींक की ध्वनि सुनना अशुभ होता है।
3- कोई मरीज दवा ले रहा हो तथा उसे छींक आ जाए तो वह शीघ्र ठीक हो जाता है।
4- यदि किसी मरीज को देखने के लिए कोई डॉक्टर को बुलाने जा रहा हो और उसे छींक की ध्वनि सुनाई दे तो उस मरीज की मृत्यु का यह संकेत है।
5- किसी कार्य की शुरुआत में छींक अक्सर अशुभ ही मानी जाती है।
6- किसी कार्य को प्रारम्भ में ही कार्य करने वाले को छींक आ जाए तो महाभयंकरकारी होता है।
7- किसी कार्य के लिए जाते समय छींक आए, उसे दबा लिया जाए तो वह और भी अशुभ संकेत माना गया है।
8- हल्के स्वर की छींक हानिप्रद मानी जाती है, अगर छींक उंचे स्वर में हो और जो चारों दिशाओं को बंेध रही हो तो ऐसी छींक का शकुन सर्वत्र जय दिलाता है।
9- एक व्यक्ैित की नाक के एक ही स्वर के चलते कुछ समय के बाद दूसरी छींक आ जाए तो सभी कार्य पूर्ण कराती है।
1०- प्रस्थान करते समय सामने ही छींक हो तो व्यर्थ ही झगड़े का कारण हो जाता है।
11- कही जाते समय दायी ओर से छींक सुनाई दे तो धन का नुकसान होता है।
12- कहीं जा रहे हो और रास्ते में छींक का शकुन आए तो शुभ होता है।
13- कहीं जाते समय पीठ के पीछे से या बायीं ओर से छींक का स्वर सुनाई दे शुभ फल प्राप्त होता है। ऊॅची मंजिल से छींक स्वर आना शुभ शकुन होता है।
14- पखाना जाते समय कोई छींके तो शुभ होता है।
15- सोने के लिए जाते समय या सोते समय छींक का शकुन लाभ ही कराता है।

16- दवा या खाना खाते समय छींक शुभ ही मानी जाती है।
17- यात्रा के आरम्भ में छींक अशुभ होती है।
18- व्यापार के आरम्भ में छींक शुभ मानी जाती है।
19- बाजार में खरीददारी करते समय छींक को शुभ शकुन के रूप में स्वीकार किया गया है।
2०- अगर किसी को एक से अधिक छींके आएं तो प्राय: शुभप्रद रहता है।
21- जीव जन्तुओं की छींक को शुभ नहीं माना जाता है।
22- यदि किसी को प्रवास करते समय दिन के प्रथम प्रहर में दक्षिण की ओर से छींक की ध्वनि सुनाई दे तो उस दिन अच्छे भोज्य मिलते हैं दूसरे प्रहर में सुनाई दे तो व्यापार में अनपेक्षित लाभ होता है। अगर तीसरे प्रहर में सुनाई दे तो आने वाले समय में किसी विपदा का सामना करना पड़ता है और अगर चौथ्ो प्रहर में सुनाई दे तो किसी बहुत ही प्रिय सम्बन्धी से मिलना होता है।
23- अगर दक्षिण -पश्चिम दिशा में छींक की ध्वनि कोई व्यक्ति दिन के प्रथम प्रहर में सुनता है तो उसे व्यवसायिक लाभ होता है, दूसरे प्रहर में सुनता है तो चोरी से हानि का भय होता है। तीसरे प्रहर में व्यक्ति सुनता है तो यात्रा पर जाने की सम्भावना और चौथ्ो प्रहर में सुनता है तो शीघ्र ही सुविधाएं जुटती हैं।
24- यदि कोई मनुष्य पश्चिम की ओर छींक की ध्वनि सुनता है तो दिन का पहला प्रहर हो तो उसे यात्रा पर जाना पड़ता है। दूसरा प्रहर हो तो यात्रा में सुख मिलता है। तीसरा प्रहर में सुनाई दे तो कार्य की चिंता से परेशानी होती है। चौथ्ो प्रहर में सुनता है तो जिस कार्य के लिए संलगÝ है, उसमें लाभ होता है।
25- अगर किसी को उत्तर-पश्चिम दिशा में दिन के पहले प्रहर में छींक की आवाज सुनाई देती है तो उसे व्यवसायिक लाभ होता है। दूसरे प्रहर में सुनता है तो झगड़े की आशंका होती है। तीसरे प्रहर में सुनता है तो सुख की प्राप्ति और चौथ्ो प्रहर में सुनता है तो इच्छित वस्तुओं का लाभ होता है।
26- यदि कोई व्यक्ति उत्तर दिशा में किसी की छींक की आवाज दिन के प्रथम प्रहर में सुनता है तो उसे दुख भोगना पड़ता है। दूसरे प्रहर में सुनता है तो सुखानुभूति होती है। तीसरे प्रहर में सुनता है तो सुस्वादु भोजन मिलता है और चौथ्ो प्रहर में सुनता है तो शुभ समाचार प्राप्त होता है।
27- यदि छींक की आवाज पूर्वोत्तर दिशा और दिन के प्रथम प्रहर में कोई व्यक्ति सुनता है तो उसे अनेक संकटों का सामना करना पड़ता है। दूसरे प्रहर में सुनता है तो उसे धन की हानि, तीसरे प्रहर में कार्यो में विध्न व चौथ्ो प्रहर में सुनता है तो अप्रत्याशित लाभ होता है।
28- पूर्व दिशा की ओर से अगर कोई व्यक्ति दिन के प्रथम प्रहर में छींक की ध्वनि सुनता है तो उसे अनेक कष्टों का सामना करना पड़ता है। दूसरे प्रहर में सुनता है तो देह कष्ट, तीसरे प्रहर में स्वादिष्ट भोजन की प्राप्ति और चौथ्ो प्रहर में सुनता है तो किसी मित्र से मुलाकात होती है।
29- अगर किसी के जाते समय कोई सामने से छींकता है तो कार्य में बाधा आती है। यदि एक से अधिक बार छींकता है तो कार्य सरलता से सम्पन्न हो जाता है।
3०- यदि कोई व्यक्ति कुछ क्रय करने के लिए जा रहा हो और उसके क्रय करते समय छींक आ जाए तो उसने जो वस्तु खरीदी है, उससे लाभ होगा।
31- यदि कोई व्यक्ति धार्मिक अनुष्ठान या यज्ञादि शुरू करता है और उसे छींक आ जाती है, या फिर उसके सामने कोई छींक देता है तो अनुष्ठान सम्पूर्ण नहीं होता है।
32- व्यवसायिक कार्य आरम्भ करने से पूर्व छींक आना व्यापार के लिए वृद्धि का संकेत होता है।
33- अगर कोई व्यक्ैित किसी नए मकान में प्रवेश कर रहा हो और उसे छींक की ध्वनि सुनाई दे तो उसे प्रवेश स्थगित कर देना चाहिए।

ADVT

यह भी पढ़ें –पवित्र मन से करना चाहिए दुर्गा शप्तशती का पाठ

यह भी पढ़ें –नवदुर्गा के स्वरूप साधक के मन में करते हैं चेतना का संचार

यह भी पढ़ें –भगवती दुर्गा की उत्पत्ति की रहस्य कथा और नव दुर्गा के अनुपम स्वरूप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here