दादा जी के आयुर्वेदिक नुस्खे: कान सम्बंधित रोगों का उपचार

0
85

कान में जलन की दवा

ADVT

मिट्टी पट्टी कान के चारों ओर लगाएं।

सलाह – किसी वैद्य से परामर्श कर इसका प्रयोग कीजिए। परीक्षण भी उक्त वैद्य से करा लें। उसके बाद ही इसका उपयोग करें। 

कान के बहने की दवा

1- नीम के पत्ते का रस गर्म करके शहद में मिलाकर कान में डाले।

2- पीपल के कोमल पत्तों का रस कान में डालें।

सलाह – किसी वैद्य से परामर्श कर इसका प्रयोग कीजिए। परीक्षण भी उक्त वैद्य से करा लें। उसके बाद ही इसका उपयोग करें।

कान दर्द की दवा

1- गेंदा के फूल के पत्तों का रस कान में गर्म करके डाले।

2- सुदर्शन के पत्ते का रस गर्म करके कान में डालें।

3- नीम के पत्ते का रस गर्म करके कान में डालें।

 4- गोमूत्र गर्म कर कान में डालें।

5-पीपल के पत्ते का रस रस कान में डाले।

6- पलाश के कोमल पत्तों का रस कान में डाले।

7- बरोह यानी बरगद की जटा और काली मिर्च पीसकर गर्म करें और कपड़े में भिगों कर कान में डालें।

8- आम का पीला पत्ता घी में चुपड़ लें, फिर उसे सेंक कर गर्म कर उस का रस कान में डालें।

9- पान लगाकर तम्बाकू के साथ पीस लें, उसी का रस कान में डालें।

सलाह – किसी वैद्य से परामर्श कर इसका प्रयोग कीजिए। परीक्षण भी उक्त वैद्य से करा लें। उसके बाद ही इसका उपयोग करें।

बहरापन की दवा

1- आक यानी मदार का पीला पत्ता लेकर उसमें घी चुपड़ कर उसको आग में सेंक लंे, उी रात को रस निचोड़कर कान में डाले।

2- गाय का अर्थात बछिया का मूत्र गर्म करके डाले। लाभ होगा।

सलाह – किसी वैद्य से परामर्श कर इसका प्रयोग कीजिए। परीक्षण भी उक्त वैद्य से करा लें। उसके बाद ही इसका उपयोग करें।

प्रस्तुति

स्वर्गीय पंडित सुदर्शन कुमार नागर

सेवानिवृत्त तहसीलदार/ विशेष मजिस्ट्रेट, हरदोई

नोट:स्वर्गीय पंडित सुदर्शन कुमार नागर के पिता स्वर्गीय पंडित भीमसेन नागर हाफिजाबाद जिला गुजरावाला पाकिस्तान में प्रख्यात वैद्य थे।

यह भी पढ़ें – वैैष्णो देवी दरबार की तीन पिंडियों का रहस्य

यह भी पढ़ें – जानिए, क्या है माता वैष्णवी की तीन पिण्डियों का स्वरूप

यह भी पढ़ें – जाने नवरात्रि की महिमा, सभी मनोरथ सिद्ध करती हैं भगवती दुर्गा

यह भी पढ़ें – भगवती दुर्गा के 1०8 नामों का क्या आप जानते हैं अर्थ

यह भी पढ़ें –नवदुर्गा के स्वरूप साधक के मन में करते हैं चेतना का संचार

यह भी पढ़ें –शुक्रवार व्रत कथाएं : सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं शुक्रवार के व्रत से

यह भी पढ़ें –पवित्र मन से करना चाहिए दुर्गा शप्तशती का पाठ

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here