जानिए, मंगल के गोचर का राशियों पर क्या होगा प्रभाव

0
246

 

ADVT

डेढ़ माह बाद नीच राशि से निकल रहा है। मंगल ने सिह में प्रवेश किया है। विगत कुछ दिन से चल रहा राहु मंगल का नकारात्मक योग भी अब समाप्त होगा।

ज्योतिषीय गणनाओं के मुताबिक मंगल किसी भी राशि में लगभग डेढ़ माह यानी 45 दिन गोचर करता है और डेढ़ माह पूरे होने पर अगली राशि में प्रवेश करता है। इस तरह एक राशि में डेढ़ माह रहने के कारण भौगोलोक सामाजिक व सभी बारह राशियों पर मंगल के गोचर का विशेष प्रभाव पड़ता है, जोकि राशि के अनुसार सकारात्मक व नकारात्मक रहता है। राशि के प्रभाव के अनुसार मनुष्य के जीवन में प्रभाव दृष्टिगोचर होता है…………….

11 जुलाई को मंगल ने गोचरवश अपनी नीच कर्क में प्रवेश किया था तथा पिछले डेढ़ महीने से मंगल अपनी नीच राशि में ही चल रहा था,जो की ज्योतिषीय दृष्टि से एक संघर्ष पूर्ण समय होता है, जिसमे वातावरण में क्रोध, विवाद, वाद-विवाद और दुर्घटनाओं की स्थिति बनती है और व्यक्तिगत रूप से भी सभी के लिए एक बहस और विवादों की वृद्धि का समय होता है, इसलिए पिछले डेढ़ माह में समय दुर्घटनाओं और विवादों आदि से भरा रहा है।

इसके इतर विशेष रूप से विगत 18 तारिख से राहु के कर्क राशि में आने के बाद तो मंगल राहु का विध्वंशकारी योग भी बन गया था जिस कारण पिछले दस दिनों में बड़ी रेल दुर्घटनाएं और हाल ही में पंचकुला समेत उत्तर भारत के कई स्थानों पर जो असामाजिक तत्वों और अंध भक्तों के द्बारा जो अराजकता फैलाई गयी, वह भी नीचस्थ मंगल और राहु के योग का एक नकारात्मक प्रभाव था लेकिन अब 27 अगस्त को सुबह 8 बजकर 28 मिनट पर मंगल कर्क राशि से निकलकर ’’सिह राशि’’ में प्रवेश किया है, जो की ज्योतिषीय दृष्टि से भौगोलिक सामाजिक और व्यक्तिगत सभी स्तर पर एक सकारात्मक परिवर्तन होगा क्योंकि मंगल के सिह राशि में आने से नीच राशि में मंगल का संघर्षकारी प्रभाव और मंगल राहु के विध्वंसकारी योग का नकारात्मक प्रभाव भी समाप्त हो जायेगा, जिससे अब 27 तारिख को मंगल के सिह राशि में आने के बाद पिछले कुछ समय से बढ़ रही दुर्घटनाओं और सामाजिक स्तर पर चल रहे उपद्रव और संघर्ष में कमी आएगी और शांती के वातावरण में वृद्धि होगी।

हाँ भैगोलिक दृष्टि क्योंकि मंगल अग्नि कारक ग्रह है वो अग्निकारक राशि सिह में ही प्रवेश करेगा तो यह पूर्णतया संभव है के आगे के समय में भी अभी गर्मी का कोप बना रहेगा लेकिन कुल मिलाकर 27 तारिख को मंगल के कर्क से निकलकर सिह राशि में आने पर पिछले कुछ समय में बढ़ी सामाजिक उठा पटक में कमी और सकारात्मक परिवर्तन अवश्य आएगा।

बारह राशियों पर अगले डेढ़ माह सिह के मंगल का प्रभाव –

मेष राशि – शुभ है, चल रहा गृह क्लेश और पारिवारिक विवाद रुकेंगे, संघर्ष में कमी आएगी।

वृष राशि – संघर्ष बढ़ेगा, पारिवारिक विवाद उत्पन्न होंगे अपने व्यव्हार पर नियंत्रण रखें आर्ग्युमेंट्स से बचें।

मिथुन राशि – अच्छा है, उत्साह और पराक्रम में वृद्धि होगी, चल रहा अधिक धन खर्च और आर्थिक संघर्ष रुकेगा।

कर्क राशि – सकारात्मक है, चल रहे क्रोध और मानसिक तनाव में कमी आएगी, करियर में आ रही रुकावट कम होंगी।

सिह राशि – पिछले कुछ समय में बढे धन खर्च और धन हानि रुकेगी, आत्मविश्वाश बढ़ेगा, क्रोध पर नियंत्रण रखें।

कन्या राशि – संघर्ष कारक है, विशेष रूप से धन खर्च बढ़ेगा और धन हानि की सम्भावना होगी अत: आर्थिक लेनदेन में सावधानी रखें।

तुला राशि – शुभ है, लाभ बढ़ेगा आर्थिक उन्नति होगी, करियर में आ रही बाधाएं रुकेंगी।

वृश्चिक राशि – अच्छा है, आत्मविश्वाश और प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी, करियर में सकारात्मक परिवर्तन होंगे।

धनु राशि – सकारात्मक है, पिछले कुछ समय में बढ़ी स्वास्थ समस्याएं रुकेंगी, उत्साह और पराक्रम में वृद्धि होगी, मेहनत से किये गए कार्य सफल
होंगे,

मकर राशि – संघर्ष कारक है, स्वास्थ समस्याएं बढ़ेंगी, स्वास्थ के प्रति सचेत रहें, व्यर्थ के विवादों से बचें और विशेष रूप से वाहन चलने में सावधानी बरतें।

कुम्भ राशि – मध्यम है, पिछले कुछ समय बढे विवाद सुलझेंगे, आत्मविश्वाश बढ़ेगा, करियर में सकारात्मक परिवर्तन होंगे, परन्तु वैवाहिक जीवन में तनाव संभव है अत: आर्गुमेंट्स से बचें।

मीन राशि – सकारात्मक है, आत्मविश्वास बढ़ेगा, विरोधियों पर विजय मिलेगी, किये गए प्रयासों में संघर्ष के बाद सफलता मिलेगी।

मंगल के गोचर प्रभाव को सकारात्मक करने के लिए प्रतिदिन ’’हनुमान चालीसा’’ का पाठ करें

।। श्री हनुमते नम:।।

प्रस्तुति : धीरेंद्र पांडेय, प्रख्यात ज्योतिषाचार्य, मोबाइल नंबर:945०4477००, ०9919388388

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here