कोयल का बोलना कब शुभ, कब अशुभ

0
128

कोयल की कूक भला किसे नहीं भाती है। कोयल एक ऐसा पक्षी है, जो अब शहरी क्ष्ोत्रों में कम ही देखा जाता है, लेकिन ग्रामीण अंचल में इसे आसानी से देखा जा सकता है। कोयल की कूक आम तौर पर सभी पसंद आती है। आइये जानते है,कोयल से सम्बन्धित शकुन के बारे में- कोयल की कूक किसी प्रवासी को दिन के पहले प्रहर में दक्षिण पूर्व दिशा से सुनाई दे तो हानि का समाचार मिलता है।

ADVT

अगर दूसरे प्रहर में सुनाई दे तो एएक घर को त्याग कर उससे निम्न घर में वास करना होता है। अगर तीसरे प्रहर में सुनाई दे तो राज्य दंड का भय रहता है। अगर चौथ्ो प्रहर में सुनाई दे तो शुभ समाचार मिलते हैं।
– अगर कोई व्यक्ति कोयल की बोली को पूर्व दिशा में दिन के प्रथम प्रहर में सुने तो उसका अपने घर से मोह भंग हो जाता है। दूसरे प्रहर में सुने तो व्यक्ति के भवन स्वामी या मालिक ककी मृत्यु की संभावना रहती है। तीसरे प्रहर में सुने तो राज्य पक्ष से भय और चौथ्ो प्रहर में सुनाई दे तो राज्य से लाभ रहता है।
– कोयल की बोली दिन के प्रथम प्रहर में दक्षिण दिशा में सुनाई दे तो किसी दुर्घटना की आशंका बनती है। दूसरे प्रहर में सुनाई दे तो किसी कार्य की सिद्धि होती है। तीसरे प्रहर में सुनाई दे तो मित्र से झगड़ा होता है। चौथ्ो प्रहर में सुनाई दे तो अज्ञात शत्रु के कारण हानि उठानी पड़ती है।
– कोयल की कूक किसी व्यक्ति को दिन के प्रथम प्रहर में पश्चिम कोण से सुनाई दे तो उसके घर में आग लगने की संभावना होती है। दूसरे प्रहर में सुनाई दे तो धन की प्राप्ति होती है। तीसरे प्रहर में सुनाई दे तो अत्यधिक वर्षा की संभावना रहती है। अगर चौथ्ो प्रहर में सुनाई दे तो आकस्मिक रूप से धन हानि होती है।
– जो व्यक्ति दिन के प्रथम प्रहर में कोयल की बोली को उत्तर पूर्व दिशा में सुनता है तो उसे व्यापार में लाभ होता है। दूसरे प्रहर में सुनता है तो किसी तीख्ो नख वाले पशु से घायल होने की आशंका बनती है। तीसरे प्रहर में सुनता है तो घर में चोरी की आशंका होती है। चौथ्ो प्रहर में सुनता है तो निकट भविष्य में अनेक अशुभ घटनाएं घटती हैं।
– किसी व्यक्ति को कोयल की बोली पश्चिम दिशा में दिन के प्रथम प्रहर में सुनाई दे तो उसके घर में चोरी की आशंका बनती है। दूसरे प्रहर में सुनाई दे तो अग्निकांड से हानि की अशंका होती है। तीसरे प्रहर में सुने तो किसी प्रियजन की मृत्यु का समाचार मिलता है। अगर चौथ्ो प्रहर मंे सुने तो अनजान लोगों से झगड़ा होता है।
– अब पश्चिमोत्तर कोण के बारे में जानिए। पश्चिमोत्तर कोण में कोयल की बोली किसी व्यक्ति को दिन के प्रथम प्रहर में सुनाई दे तो उसके राज्य कृपा प्राप्त होती है। दूसरे प्रहर में सुनाई दे तो पुत्र प्राप्ति का हर्ष मिलता है। तीसरे प्रहर में सुनाई दे तो चोरी से धन की हानि की आशंका होती है। चौथ्ो प्रहर में सुनता है तो अप्रत्याशित घटनाएं घटती हैं।
– जब कोइ्र व्यक्ति दिन के प्रथम प्रहर में कोयल की बोली उत्तर दिशा में सुनता है तो उसकी पत्नी को मृत्युसम कष्ट झेलने पड़ते हैं। अगर दूसरे प्रहर में सुनाई दे तो घर का मुखिया संकट में पड़ जाता है। अगर तीसरे प्रहर सुनाई दे तो सुख सुविधाओं में वृद्धि और चौथ्ो प्रहर में सुनाई दे तो दुर्घटना से हानि होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here