सम्मोहन के रहस्य, जानिए कैसे करें सम्मोहन, सशक्त होती है मानसिक शक्ति

0
1271
sammohan

म्मोहन शब्द अपने आप में काफी रहस्यपूर्ण है। सम्मोहन भारत की प्रचीनतम विद्याओ में एक है, इस विद्या के माध्यम से हम दूसरे को अपने वश में कर सकते हैं। युगों से इस परामनोविज्ञान की एक श्रेष्ठ विद्या का उपयोग होता रहा है। सामान्य तौर पर किसी को अपने आचरण, बात-व्यवहार, रूप-रंग व सौंदर्य से आकर्षित तो किया जा सकता है, लेकिन इससे उसे तत्काल अपने सम्मोहन में कदापि बांधा नहीं जा सकता है।

यह भी पढ़ें – जाने, योग क्या है, क्यों करें आप योग और किस लिए करते हैं योग

ADVT

सम्मोहन विद्या को ही प्राचीनकाल से प्राण विद्या अथवा त्रिकालविद्या के नाम से भी जाना जाता था। इसे मोहिनी और वशीकरण विद्या के नाम से भी जाना जाता हैं। पूर्व काल में साधु-संत और ऋषि-मुनि इस विद्या का प्रयोग सिद्धियां और मोक्ष प्राप्त करने के लिए भी करते थे। त्रिकाल विद्या इसको इसलिए माना जाता है, क्योंकि सम्मोहन विद्या से आखिर में व्यक्ति या साधक भूत भविष्य वर्तमान देखने की क्षमता प्राप्त कर लेता है, जो उसे सर्व सामाथ्र्यवान बनाती है। सम्मोहन विद्या के माध्मय से व्यक्ति तीन तरीकों से दूसरे व्यक्ति को सम्मोहित कर सकता है।

1 – साधारण सम्मोहन क्या है?

यह मात्र सतही सम्मोहन होता है, इसमें व्यक्ति केवल उपरी तौर पर ही सम्मोहित होता है और सम्मोहित व्यक्ति आपकी वही बातें मानेगा जो उसके अनुकूल होगी, जो बात उसके आचरण, धर्म व विश्वास के विपरीत होगी, ऐसी बात वह कभी नहीं मानेगा, यानी कहने का आशय यह हुआ कि वह स्वयं के हित को सर्वोपरि रख्ोंगा, वह आपके सम्मोहन में तो जरूर होगा, लेकिन करेगा अपने हित को ध्यान में रखकर।

2 -क्या है दूसरे स्तर का सम्मोहन क्या है?  

दूसरे स्तर पर सम्मोहित किया गया व्यक्ति आपकी आज्ञा के अनुसार कार्य करने लगता है, लेकिन इस स्तर पर भी वह सम्मोहनकर्ता की सभी बातें नहीं मानता। कल्पना कर लीजिए, अगर सम्मोहनकर्ता सम्मोहित व्यक्ति से कहता है कि वह किसी का हत्या कर दे या फिर उसके किसी प्रिय का अपमान कर दे, तो सम्मोहित व्यक्ति ऐसा नहीं करेगा। वह ऐसा कोई अन्य कार्य भी नहीं करेगा तो उनके व्यवहार, संस्कार व आचरण के प्रतिकूल होगा। वह वहीं करेगा, जो उसके आचरण के अनुकूल होगा।

3- तीसरे स्तर का सम्मोहन क्या है?

इस स्तर पर सम्मोहित व्यक्ति पूरी तरह से सम्मोहनकर्ता के वश में होता है। सम्मोहनकर्ता जो भी उस व्यक्ति को आज्ञा देगा, वह व्यक्ति उसकी बात अवश्य मान लेता है। इस स्तर पर सम्मोहित व्यक्ति के मन में कोई बात भी डाली जा सकती है। जिसे वह व्यक्ति मानने लगता है। उदाहरण स्वरूप अब से आपको मिर्ची मीठी लगने लगेगी, अचार फीका लगेगा और इसके बाद अगर सम्मोहन तोड़ दिया जाए तो आपको बहुत ज्यादा हैरानी होगी कि सम्मोहित व्यक्ति को मिर्ची मीठी लगने लग जाएगी और आचार फीका लगने लगेगा।

आखिर पोस्ट हिप्नोटिज्म क्या है?

सम्मोहन का एक अन्य तरीका भी है, जिसे पोस्ट हिप्नोटिज्म कहा जाता है, इस सम्मोहन के तहत व्यक्ति सीधे तौर पर किसी दूसरे व्यक्ति को सम्मोहित नहीं करता है, बल्कि वह किसी वस्तु के माध्यम से दूसरे व्यक्ति को सम्मोहित करता है। उदाहरण स्वरूप सम्मोहनकर्ता एक रुमाल पर सम्मोहन करता है और  उसे भावना देता है कि जो भी व्यक्ति इस रुमाल को देखेगा, वह उसके अनुकूल हो जाएगा।

यह भी पढ़ें – क्या है पतंजलि का आष्टांग योग,बीस से अधिक उपनिषदों में भी योग का उल्लेख

 यह बहुत हैरान कर देने वाला तथ्य यह है कि इस प्रकार का सम्मोहन भी पूरी तरह से काम करता है और जो भी व्यक्ति उस रुमाल को देखेगा वह सम्मोहनकर्ता के अनुकूल निश्चित तौर पर करेगा। यह सम्मोहन का काफी प्रभावी तरीका है।

जानिए, स्व: सम्मोहन क्या है?

इस प्रक्रिया में सम्मोहन कर्ता स्वयं का सम्मोहन करता है। सम्मोहन की इस प्रक्रिया में व्यक्ति का उसके मस्तिष्क पर नियंत्रण बढ़ जाता है और इससे उसका मस्तिष्क सशक्त हो जाता है। यह विद्या आत्मोत्थान के लिए प्रभावी मानी गई है।

जाने, कैसे काम करता है सम्मोहन

इतना सब जानने के बाद आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा और तमाम उत्सुकताएं होगी, कि आखिर सम्मोहन कैसे काम करता है? आइये जानते है कि असलियत में सम्मोहन हमारी मानसिक शक्ति पर निर्भर करता है। सम्मोहन पूरी तरह से हमारे अचेतन मस्तिष्क पर आधारित होता है, हमारा अवचेतन मस्तिष्क जितना ही शक्तिशाली व एकाग्र होगा, उतनी हमारी सम्मोहन शक्ति प्रबल होती जाएगी। आइये जानते हैं कि अवचेतन मस्तिष्क को एकाग्र व शक्तिशाली कैसे बनाया जाए? यूं तो हमारे अवचेतन मस्तिष्क को शक्तिशाली व एकाग्र करने की अनेक विधियां शास्त्रों में बताई गई है, लेकिन उन विधियों में भी दो विधियां प्रमुख है, ये दो विधियां हम आपको बताने जा रहे हैं, पहली है त्राटक तो दूसरी है ध्यान।

आइये जानते है कि त्राटक क्या है किसी वस्तु अथवा बिंदु को एकटक बिना पलक झपकाए देखने को त्राटक कहते हैं। त्राटक ही सम्मोहन की पहली सीढ़ी हैं। इस सीढ़ी पर चल कर साधक मन और इंद्रियों को वश में करने का प्रयास करता है। विशेष तौर पर मन और नेत्रों को वश में करने का प्रयास करते है।

ध्यान क्या है आंखें बंद कर किसी व्यक्ति, वस्तु या निराकार तत्व के बारे में बिना कोई अन्य विचार लाए सोचने को ध्यान कहते हैं। ध्यान के माध्यम से मानसिक शक्तियां प्रबल होती है, यह सर्वाधिक प्रभावी साधना है। ये दोनों विद्याएं ही अत्यंत शक्तिशाली है। आप त्राटक के माध्यम से एक सफल सम्मोहनकर्ता बन सकते हैं। यह विद्या अपेक्षित रूप से सहज भी होती है, क्योकि ध्यान के माध्यम से मन और मस्तिष्क को साधना हर व्यक्ति के बस की बात नहीं होती है।

आइये जानते हैं कि सम्मोहन के क्या लाभ होते है

 

  1. रोजगार के क्ष्ोत्र में व्यक्ति सम्मोहन के जरिए अपने उच्च अधिकारियों को अपने अनुकूल कर सकता है और अपने से छोटे अधिकारियों को प्रभावित कर उन्हें भी अनुकूल कर सकता है।
  2. सम्मोहन से व्यक्ति किसी भी व्यक्ति को अपने अनुकूल बना सकता है।
  3. सम्मोहन विद्या का प्रयोग कर व्यवसाय को तेजी से बढ़ाया जा सकता है और कहीं अटकी पेमेंट भी आसानी से हासिल की जा सकती है।
  4. प्रेम के क्षेत्र में तो सम्मोहन ही सब कुछ है। इसके जरिए आप सामने वाले स्त्री अथवा पुरुष को आसानी से आकर्षित कर सकते हैं।
  5. घरेलू कलह रहती हो तो सम्मोहन इन मामलों में बहुत तेजी से काम करता हैं और पति-पत्नी के मध्य संबंध भी सदा के लिए मधुर बनाएं जा सकते हैं।
  1. पढ़ाई के क्षेत्र में भी सम्मोहन अपना एक अलग महत्व रखता है, क्योंकि सम्मोहन के जरिए बच्चों के दिमाग में जल्दी याद करने का गुण बढ़ाया जा सकता है और अगर किसी बच्चे का दिमाग पढ़ाई में नहीं लगता तो सम्मोहन के जरिए उसकी रुचि पढ़ाई के क्ष्ोत्र में भी बढ़ाई भी जा सकती है।

 

जानिए, सम्मोहन करने की विधि

सम्मोहन के लिए अनेक विधियां हैं। सम्मोहन के लिए मन को ताकतवर बनाने के अगर कुछ साधारण उपाय बताए गए हैं। तंत्र, मंत्र और यंत्र को भी इसके लिए उपयोगी बताया गया है। इसका सबसे सरल तरीका योग है, जिसमें प्राणायाम से मन की स्थिरता हासिल की जा सकती है। इसके साथ ही सभी इन्द्रियों में एक अद्भुत शक्ति हासिल करने के लिए स्थिर मन को एक दिशा में केन्द्रित किया जाता है। सम्मोहन वैसे ध्यान, प्राणायाम और नेत्र त्राटक से संभव है।

एक अन्य तरीका शवासन का है। इस स्थिति में लेटकर आंखें बंद किए हुए ध्यान करना होता है। ऐसा करने वाले व्यक्ति को योग निद्रा में जाने का अभ्यास करना चााहिए। इस अवस्था में शरीर का चेतन मन सुसुक्तावस्ता में आ जाता है, जबकि अवचेतना जागृत रहती है।

यह स्थिति ठीक उसी तरह की होती है, जिसमें शरीर और मन की सुसु’ावस्था होने बावजूद व्यक्ति का चेतन जागृत रहता है। इस स्थिति में वह खुद को निर्देशित भी कर सकता है। यह कहें कि जागा हुआ व्यक्ति भी नींद में सोया रहता है।सम्मोहन की अन्य अपनाई जानेवाली साधारण विधियों में अंगूठे, पेंडुलम या किसी अन्य वस्तु को कुछ समय तक एकटक देखना भी है, वह भी बिना पलक झपकाए। यह एक साधना है।

जैसे आंखों के ठीक सामने जलती हुई मोमबत्ती, पेंडुलम या लाल बल्ब को देखते रहने से एक सम्मोहन चक्र का एहसास किया जा सकता है। इसमें जरा भी विचलन की स्थिति नहीं आए, इसके लिए ध्यान और मंत्रोच्चारण का भी सहारा लिया जाता है। यह व्यक्ति के स्व-सम्मोहन की स्थिति होती है, जिससे उसमें मन-मस्तिष्क को नियंत्रित करने की रहस्यमयी शक्ति आ जाती है, जो कि अदभुत व प्रबल होती हैं।

यह भी पढ़ें संताप मिटते है रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग के दर्शन-पूजन से

सम्मोहन के लिए अपनायी जाने वाला प्रगतिशील विश्राम विधि भी काफी आसान है। इसके  लिए सम्मोहित किए जाने वाले व्यक्ति को एक वैसे कमरे में तनावमुक्त अवस्था में बिठाएं, जिस स्थान पर बहुत कम रोशनी होनी चाहिए। व्यक्ति को आरामदायक अवस्था में बैठाने के बाद उसके सामने से मन को भ्रमित करने या भटकाने वाले सामान तत्काल वहां से हटा दें। उदाहरण के रूप में टीवी, कोई आवाज या फिर कोई इलेक्ट्रानिक डिवाइस इत्यादि वहां से हटा देनी चाहिए।

कमरे की तमाम खिड़िकियां और दरवाजे बंद कर दें, ताकि जिससे मन की स्थिरता प्रभावित हो। सम्मोहन शुरू करने से पहले व्यक्ति को इस बारे में भी अच्छी तरह बताना चाहिए। उसे यह भी बताना श्रेयस्कर रहता है कि इससे उसके शरीर और मन-मस्तिष्क पर किसी भी तरह का दुष्प्रभाव नहीं पड़èने वाला है और यह एक तरह से उनको एक आरामदायक विश्राम की अवस्था में ले जाने के लिए किया जा रहा है। इसे आप निश्चित तौर बेहोशी नहीं कह सकते हैं, और न ही इससे आपके  ऊपर कोई जादू किया जाने वाला है। इससे व्यक्ति के दिमाग में एक स्वप्न जैसी आभा बनेगी, जिससे आपमें सकारात्मक ऊर्जा का संचार हो जाएगा। उन्हें इस बात को लेकर भी यह आश्वस्त किया जाना चाहिए कि यह उनको चिंतामुक्त बनाएगा और इसी के साथ उस व्यक्ति से सम्मोहित करने के  कारण और उसके लक्ष्य के बारे में भी पूछा जाना चाहिए, जिससे उसके भाव-समाधि के एक आभामंडल की सकारात्मक परिणाम देने वाली अवस्था बने। पूरी प्रक्रिया के दौरान बेहद धीमे और मधुर स्वर में बोलें। जिससे ऐसा प्रतीत हो कि आपके शब्द उसके मन के भाव को एक आवरण दे रहे हों।

शरीर की मांशपेशियों को पूरी तरह से ढीला छोड़ते हुए विश्राम करने को कहें। अच्छी तरह से सांस लेने और छोड़ने को कहें। ऐसा करने से ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा मस्तिष्क तक पहुंचती है और इस तरह से बनी शिथिलता बनने पर धीर-धीरे व्यक्ति की आंखें बंद होने के बावजूद वह नियंत्रण में रहता है। इसके साथ ही सम्मोन के कुछ गुप्त उपाय भी अपनाए जा सकते हैं, जिससे अपने भीतर सम्मोहन की शक्ति बढ़ाई जा सकती है। जैसे बनस्पति श्वेत अपामार्ग की जड़ को घिसकर तिलक लगाने या मोर की कलगी को रेश्मी कपड़े में बांधकर रखने से सम्मोहन शक्ति बढ़ाई जा सकती है। स्त्रियां सम्मोहन शक्ति अपने मस्तक पर लगे लाल बिंदी के जरिए भी प्राप्त कर सकती है।

आंखों के बीच लगे सिंदूर या रोली की बिंदी यदि खुद देख पाएं, तो समझें आपमें सम्मोहन शक्ति जागृत हो चुकी है। गुरुवार के दिन मूल नक्षत्र में केले की जड़ को सिंदूर के साथ पीसकर उसका तिलक लगाने से सम्मोहन शक्ति बढ़ती है।

यह भी पढ़ें – शिवलिंग की आधी परिक्रमा ही क्यों करनी चाहिए ? जाने, शास्त्र मत

सम्मोहन का यह प्रयोग मन की ताकत का एहसास करवाता है तो कल्पनाशीलता और वैचारिकता के भाव को सुदृढ़ कर देता है। इसके परिणामस्वरूप शारीरिक बदलाव को सहजता से महसूस किया जा सकता है, यानी सम्मोहन से काफी हद तक यदि मानसिक रोगों को ठीक किया जा सकता है तो एक सीमा तक शारीरिक विकार को भी दूर किया जा सकता है। मन में गहराई तक बैठे डर को दूर करने का यह यह एक कारगर उपाय है, जिससे आत्मविश्वास की भावना का विकास संभव हो पाता है। मुश्किल से मुश्किल या असंभव कार्य करने की निडरता आती है। सम्मोहन से न केवल अपने दुख-दर्द को दूर किया जा सकता है, बल्कि भूत, भविष्य और वर्तमान की घटनाओं को भी देखा जाना जा सकता है, या फिर मानवहित में किसी के प्राण बचाने तक में इसकी मदद ली जा सकती है। साथ ही बुरी आदतों से छुटकारा पाने का यह तरीका काफी उपयोगी साबित हो सकता है।

किसी को सम्मोहित करने के लिए कैसे और क्या किया जाये? चरणवार जानकारी 

जानिए, सम्मोहन का पहला चरण

हमेशा ही ऐसे व्यक्ति की खोजा जाए जो वास्तव में सम्मोहित होना चाहता हो । जो सम्मोहित नहीं होना चाहता हो, या इस पर विश्वास नहीं करता हो, उसको सम्मोहित करने पर यह काम नही करेगा और उसे कृत्रिम निद्रावस्था में लाना बहुत मुश्किल हो जाता है। मानसिक या मानसिक विकारों की पृष्ठभूमि वाले के साथ किसी को सम्मोहित नहीं करें, क्योंकि इसके अनायास, अहितकारी और खतरनाक परिणाम हो सकता है, इसलिए एक स्वस्थ व्यक्ति चयन करे, जो सम्मोहित होने को तैयार हो। इससे आपको बेहतर परिणाम मिलेंगे।

जानिए, सम्मोहन का दूसरा चरण

आरामदायक और शांत कमरे को चुनाव करें, यह महत्वपूर्ण पहलू है। जिसका सम्मोहन आप करना चाहते हैं, उसे स्वतंत्र और सुरक्षित महसूस करवाए, उसका स्वयं को सुरक्षित महसूस करना भी उतना ही आवश्यक है। जिस कमरे में आप सम्मोहन क्रिया का प्रयोग कर रहे हैं, वहां बहुत ही हल्की रोशनी होनी आवश्यक है। कमरे का साफ-सुथरा होना भी उतना ही आवश्यक है। सम्मोहन के दौराना आरामदायक सोफा या कुर्सी होनी चाहिए, जिसमें सम्मोहित होने वाले व्यक्ति को बैठना है। इस बीच कोई भी व्यक्ति बीच में आपको परेशान न करे,यह जरुरी है,  जब तक आप दोनों बाहर न आ जाये । अन्य कोई ध्यान भंग करने वाला तत्व भी नहीं होना चाहिए।

जानिए, सम्मोहन का तीसरा चरण

जब आप सम्मोहन की प्रक्रिया में प्रवेश कर रहे हो तो सम्मोहित करने से पहले अपने व उसके लक्ष्यों और सवालों को निर्धारित कर लीजिए, इससे आपका व सम्मोहित होने वाले व्यक्ति का उत्साह बढ़ता है, जो बेहतर परिणाम देता है । बेहतर परिणाम के लिए यह जरुरी भी है। यह प्रक्रिया ध्यान में वृद्धि करने वाली है। सम्मोहन के साथ अपने विषयों के लक्ष्यों को जानने के बाद आपको उनकी स्थिति जानने में मदद मिलेगी। सम्मोहन की प्रक्रिया प्रभावी रहेगी, अवरोध नहीं होगा।

सम्मोहन प्रक्रिया समाप्त होने के बाद साथी से पूछें कि जब उसे सम्मोहित कर दिया गया था। उस समय का उसे क्या कुछ याद है? उन्हें पूछना कि उन्हें क्या करने के लिए कहा गया था? क्या और कैसे उसने जवाब दिया? उस आधार पर आप अगली बार जो कमी रह गयी उन में सुधार कर सकते है। जो आपके लिए उपयोगी होगी। आमतौर पर जो लोग पहले सम्मोहित हो चुके होते हैं, उन्हें फिर से आसानी से सम्मोहित किये जा सकता है। जो और अधिक प्रभावी होता है।

जानिए, सम्मोहन के दौरान कैसे क्या करे?

क्या बोले,कैसे बोले और कब बोले: सम्मोहन के लिए कम, धीमी गति से, सुखदायक, आवाज में बोलते हैं। अपने वाक्य सामान्य से थोड़ा ज्यादा देर के लिए लम्बा खींचे।आहिस्ता आहिस्ता बोलना चाहिए, कल्पना कीजिए कि आप अपनी आवाज से डर या चिंता युक्त व्यक्ति को शांत करने की कोशिश कर रहे हैं। पूरी बातचीत के दौरान अपनी आवाज का एक ही स्वर रखें। कुछ अच्छे शब्दों के साथ सम्मोहन के लिए वार्ता इस तरह से करें।

उदाहरण स्वरूप- यहाँ पर सब कुछ शांत है, आप सुरक्षित है और शांतिपूर्ण है। आप अपने आप को कुर्सी यों सोफे में आराम करने के लिए गहराई से आराम कर रहे हैं। अब आपकी आँखे थोड़ी भारी हो रही है, आपकी आंखें में भारीपन महसूस हो रहा है और अब आप उसे बंद करना चाहते हैं। इस समय आप अपने शरीर को स्वाभाविक रूप से ढीला छोड़कर अपनी मांसपेशियों को आराम करवा रहे हैं। मेरी आवाज सुनकर आपका शरीर और दिमाग शांत महसूस करने लगा हैं। आप इस समय का पूरा नियंत्रण में कर रहे हैं। आप केवल उन सुझावों को जो आपके लाभ के लिए है, उन्हें स्वीकार करने के लिए तैयार हो रहे हैं, जो आपके लिए निश्चित तौर पर लाभकारी रहेगी ।

सम्मोहन प्रक्रिया के दौरान सम्मोहित होने वाले व्यक्ति को उसकी गहरी सांस पर ध्यान केंद्रित कराएं

सम्मोहन की इस प्रक्रिया के तहत नियमित रूप से गहरी सांस पर ध्यान केंद्रित करने के लिए सम्मोहित होने वाले व्यक्ति को प्रेरित कीजिये। उन्हें अंदर और बाहर गहरी, संगठित सांस लेने की कोशिश करवाये। इस तरह से सांस लेने से मस्तिष्क को आक्सीजन ज्यादा मिलती है और मानसिक शक्ति प्रबल होती है, जो कि सम्मोहन प्रक्रिया में सहयोगी साबित होती है, अच्छे परिणाम मिलने में कारगर होती है और ऐसा करने से सम्मोहन, तनाव, या अपने वातावरण के अलावा अन्य के बारे में सोचने के लिए व्यक्ति तैयार हो जाता है।

सम्मोहन प्रक्रिया के दौरान निश्चित केंद्रबिंदु पर आँखे केंद्रित करवाए

 सम्मोहन के इस चरण में एक निश्चित केंद्रबिंदु पर नेत्रों के माध्यम से ध्यान कंेद्रित करवाया जाता है। उनसे कहो कि किसी भी वस्तु का चयन करे और उस पर उनकी आंखों को आराम से टिकाये। अगर उनको आंखे बंद करके पर्याप्त आराम मिलता है तो आंखे बंद भी करवा सकते हैं। ध्यान देने योग्य पहलू यह है कि आप सम्मोहित होने वाले व्यक्ति से संवाद करते रहे, इससे यह पता लगता रहेगा कही वह सो तो नहीं गया है। समय-समय पर उनकी आंखों पर ध्यान दे। अगर लगता है कि जैसे वे चारों ओर तेज कर रहे हैं, उन्हें कुछ मार्गदर्शन दे। इस अवधि में उन्हें बताइए कि उनकी आंखों और पलकों को आराम मिल रहा है, उनकी आंखे भारी हो रही हैं।

यह भी पढ़ें – शिवलिंग की आधी परिक्रमा ही क्यों करनी चाहिए ? जाने, शास्त्र मत

आप उन्हें अपेक्षाकृत शांत नियमित रूप से श्वास और धुन में अपनी आवाज के साथ उन्हें अपने पैर की उंगलियों और पैरों को आराम करने के लिए कहे और उन्हें अपने पैर, फिर उनके ऊपरी पैर, और इतने पर चेहरे की मांसपेशियों को आराम करने के लिए ऊपर से पूछो। वहां से आपअपनी पीठ, कंधे, हाथ, और उंगलियों के लिए चारों ओर वापस चक्र कर सकते हैं। अपनी आवाज धीमी और शांत रखने के लिए अपना समय ले लो। अगर व्यक्ति तनाव में लग रहा है तो  पूरी प्रक्रिया को फिर से करे। अपने पैरों और टखनों को बिलकुल शांत करे। लगातार संवाद के जरिये मन शांत करते रहिये।

मानसिक स्थिति के अनुसार ही प्रतिक्रिया कीजिए

उनकी मानसिक स्थिति के अनुसार ही एक गाइड के रूप में अपने साथी की सांस लेने और शरीर की भाषा का प्रयोग करें। आप किसी छंद और एक गीत को धीमे स्वर में दोहरा सकते है, जब तक कि आपके साथी को पूरी तरह से आराम प्रतीत नहीं होता है। इस दौरान उनकी मानसिक और शारीरिक प्रतिक्रिया पर पूर्ण ध्यान दे जैसे -उनकी आँखों (वे तेज कर रहे हैं?), उनकी उंगलियों और पैर की उंगलियों में तनाव के लक्षण देखने के (वे गतिशील है क्या?) और उनकी सांस लेने (यह उथले और अनियमित है) और जब तक वे शांत और आराम न हो, उनको विश्राम और आराम देने की तकनीकों पर काम करते रहिये

क्या है कृत्रिम निद्रावस्था सीढ़ी?

इस तकनीक को गहरी समाधि की स्थिति भी कहा जा सकता है। अपने विषय की खोज के लिए खुद को एक गर्म, शांत कमरे में एक लंबी सीढ़ी के शीर्ष पर कल्पना कीजिये। सीढ़ी के शीर्ष से नीचे की ओर हर कदम से खुद को विश्राम में गहराई में उतरता हुआ महसूस कीजिये । हर कदम अपने स्वयं के मन में गहराई में उतरना महसूस होने लगता है। पहला कदम नीचे ले जाओ तो लगता है की आप अपनी स्थिति में गहरे डूबने लगे है। हर एक कदम अपने अवचेतन मन में आगे की ओर कदम बढ़ाना है। आप दूसरे नीचे कदम में अपने आप को और ज्यादा शांत महसूस करने लगते हैं। जब आप तीसरे चरण तक पहुंचते हैं तो आपको लगेगा कि आपका शरीर मन से बिल्कुल दूर चल रहा है। इस तरह आप कृत्रिम निद्रावस्था की स्थिति में पहुंच जायेंगे।

गुप्त दृश्य-

सम्मोहन से तनाव और चिंता को कम करने की कोशिश की जाती है, लेकिन दैनिक जीवन परिप्रेक्ष्य में समस्याओं और चिंताओं को दूर करने के लिए सम्मोहन उचित नहीं है। इसलिए संभव समस्याओं का समाधान करने के लिए ही कल्पना करवानी चाहिए । कल्पना की गहराइयो में पहुंचने पर आप उनके अंदर के तनाव को सवाल और जवाबो की सहायता से बाहर निकाल सकते है ।

यह भी पढ़ें – साधना में होने वाली अनुभूतियां, ईश्वरीय बीज को जगाने में न घबराये साधक 

 सम्मोहन मानसिक वेदनाओं की एक किस्म के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। आपको एक प्रशिक्षित पेशेवर मानसिक स्वास्थ्य की सलाह लेनी चाहिए। सम्मोहन को हीपणो थेरेपी की लत, दर्द से राहत, भय और आत्म सम्मान आदि मुद्दों के लिए अधिक इस्तेमाल किया जाता है । हमे पता है कि सम्मोहन केवल किसी भी मानसिक स्वास्थ्य के समाधान का एक छोटा सा हिस्सा है। हालांकि, सम्मोहन एक चमत्कार इलाज या जल्दी ठीक करने वाला नहीं है, यह केवल एक तरह से लोगों को मदद करने के लिए अपने ही मन में गहरा गोता है। आत्म प्रतिबिंब के इस तरह के सम्मोहन मजबूत मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन गंभीर या पुरानी मुद्दों को हमेशा एक प्रशिक्षित और प्रमाणित पेशेवर द्बारा इलाज किया जाना चाहिए।

सम्मोहन के सत्र का समापन

जब भी आप सम्मोहन का सत्र समापन करे तो धीरे-धीरे उन्हें अपने ट्रान्स स्थिति से बाहर ले। उन्हें पता चलने लगेगा कि वे एक ट्रान्स में गहरा रहे हैं, उन्हें वापस ऊपर आप के साथ सीढ़ी चलना है, हर कदम के साथ जागने आसपास के वातावरण के प्रति और अधिक जागरूक होते जा रहे हैं। उन्हें बताना है कि वे वापस पूर्ण जागरूकता, सतर्क और जागने की स्थिति में पहुंच गए है। आप इस तरह से बोल सकते है कि मैं एक से पांच से गिनती करने के लिए जा रहा हूं, और पांच की गिनती में सीढ़ी से एक एक कदम ऊपर चढ़ते हुए आप व्यापक, जाग पूरी तरह से सतर्क और पूरी तरह से ताजा महसूस करने लगेंगे।

यह भी पढ़ें – यहां हुंकार करते प्रकट हुए थे भोले शंकर, जानिए महाकाल की महिमा

तुरंत बात करने के लिए किसी पर भी दबाव मत करो। अगर वे आराम से लग रहे हैं तो बस एक बातचीत खोलने के लिए बात कीजिये और कुछ समय शांत रहना चाहते है तो बाद में बात करने तक के लिए प्रतीक्षा करें।

भविष्य में सुधार के लिए मदद देखने के लिए आप साथी के साथ सम्मोहन चर्चा कीजिये । उनसे जानिए कि क्या उन्हें सही लगा?, क्या उन्हें सम्मोहन से बाहर लेने की धमकी दी?, और उन्होंने क्या महसूस किया ?और अगली बार अधिक प्रभावी ढंग से सम्मोहन क्रिया में मदद मिलेगी ।

क्या ये सुरक्षित है?

सम्मोहन मनुष्य के अवचेतन मन का एक अनुभव है। इसमें आपको अपनी इच्छा के  विरुद्ध विचारों के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता। सत्र के समापन होते ही हम वापस अपनी आम जिंदगी में लोट आते है। सम्मोहन अंदर के तनाव को काम करने का बेहद अच्छा तरीका है। सर्वाधिक लाभ मानसिक शक्तियों को बढ़ने में हो सकता है।

जरूरी सलाह

याद रखिये कि सम्मोहन कृत्रिम निद्रावस्था है। यदि कोई एक व्यक्ति आपकी इस आराम में मदद कर सकता है, तो ही आपको ऐसा करने के लिए तैयार होना चाहिए।

यह भी पढ़ें – वैैष्णो देवी दरबार की तीन पिंडियों का रहस्य

यह भी पढ़ें – जानिए, क्या है माता वैष्णवी की तीन पिण्डियों का स्वरूप

यह भी पढ़ें – जाने नवरात्रि की महिमा, सभी मनोरथ सिद्ध करती हैं भगवती दुर्गा

यह भी पढ़ें – भगवती दुर्गा के 1०8 नामों का क्या आप जानते हैं अर्थ

यह भी पढ़ें –नवदुर्गा के स्वरूप साधक के मन में करते हैं चेतना का संचार

यह भी पढ़ें –शुक्रवार व्रत कथाएं : सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं शुक्रवार के व्रत से

यह भी पढ़ें –पवित्र मन से करना चाहिए दुर्गा शप्तशती का पाठ

यह भी पढ़ें – काशी विश्वनाथ की महिमा, यहां जीव के अंतकाल में भगवान शंकर तारक मंत्र का उपदेश करते हैं

यह भी पढ़ें अकाल मृत्यु से मुक्ति दिलाता है महामृत्युंजय मंत्र

यह भी पढ़ें संताप मिटते है रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग के दर्शन-पूजन से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here