सम्मोहन: वर पक्ष को राजी करने, पति-पत्नी के सम्बन्ध मधुर बनाने और सुख- प्रसन्नता प्राप्त करने के अदभुत मंत्र

0
197

म्मोहन का सरल शब्दों में समझा जाए तो यह कहा जाएगा कि हम दूसरों पर अपना प्रभाव छोड़कर उनसे मनचाहा कार्य करा सकते हैं। सम्मोहन को आम जन इसी मायने में देखते और समझते हैं, लेकिन सम्मोहन मात्र इतनी सीमाओं में बंधा नहीं हैं, बल्कि इसके व्यापक अर्थ है। इसका विस्तार है, जो हमारे जीवन को प्रभावित कर सकता है। भारतीय धर्म ग्रंथों में सम्मोहन से जुड़ीं तमाम मंत्र व तंत्र क्रियाएं हैं। चन्द प्रभावशाली मन्त्र प्रस्तुत कर रहे है।

ADVT

1-सम्मोहन: वर पक्ष आदि के निर्णय की अनुकूलना प्रभावित होती है

चीनी-इलाइची व मिश्री आदि को 31 बार निम्नलिखित मंत्र से अभिमंत्रित करके चाय आदि में डाल कर खिलाने से वर पक्ष आदि के निर्णय की अनुकूलना प्रभावित होती है।

मंत्र है-

।। ऊॅ क्लीँ क्लीँ -वर पक्ष का नाम या कन्या पक्ष नाम- वश्र्य कुरू कुरू स्वाहा।।

2- पति या पत्नी के प्रेम पर प्रभाव

 

।। ऊॅँ कॅँ कॅँ ज्ञँ ज्ञ: मम…. वश्यं कुरू कुरू स्वाहा।।

रिक्त स्थान में नाम का उच्चारण करिए और 1०8 की एक माला तेरह दिन तक जपना है।

 

3- सुख व प्रसन्नता के लिए

 

ऊॅँ श्रीं ह्रीं नमो भगवती माहेश्वरी।

प्रसन्न वरदे अन्नपूर्ण्ो स्वाहा।।

जप की मात्रा 14००० होनी चाहिए।

जप के पश्चात दशांश का हवन होना चाहिए।

4- श्री बंगुलामुखी -गायत्री मंत्र

 

ऊॅँ ह्लीं ब्रम्हास्त्राय विद्यमहे

स्तम्भन वाणाय, धीमही

तन्नो बगला प्रचोदयात्।।

उपरोक्त मंत्र के आदि व अंत में निम्न प्रणव लगाकर जपने से उसके यानी प्रणव के कारक की सिद्ध प्रभावित होती है।

प्रणव- कारकत्व

श्रीं – लक्ष्मीकारक

ऊॅँ- मोक्षकारक

एें- शांतिकारक और अभिष्ट विद्या सिद्धिकारक

क्लीं- सम्मोहन कारक

लं- भूमि प्राप्त हेतु

रं- शत्रु उच्चाटन कारक

ऊॅँ हृौं- महाज्वर यानी हाईफीवर में लाभ कारक

श्ोष श्री बगलामुखी अनुष्ठान रहस्यम में है।

 

यंत्र भाग एक-पति वशीकरण यन्त्र 

उपरोक्त मंत्र को ताजी रोटी पर प्याज के रस या देशी घी से लिखकर पति को खिलाने से वश में तथा प्रसन्न रहेगा।

 

यंत्र भाग दो-पति वशीकरण यन्त्र

यंत्र बनाते समय निम्न मंत्र का कम से कम दस बार जप करे, तत्पश्चात यंत्र को अपने पास आदरपूर्वक व शुद्ध स्थल तथा सुरक्षित रूप रख लें। पति प्रसन्न रहेगा।

।। ऊॅँ तालुम्बरी दह दह दरै भाल भाल

आं आं हुॅँ हुॅँ हुॅँ हें हें काल कमानी

कोट कांतिया ऊॅँ ठ: ठ: ।।

प्रस्तुति

विष्णुकांत शास्त्री
विख्यात वैदिक ज्योतिषाचार्य और उपचार विधान विशेषज्ञ
38 अमानीगंज, अमीनाबाद लखनऊ

मोबाइल नम्बर- 99192०6484 व 9839186484

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here