स्कन्दपुराण में गौ महिमा का कुछ ऐसा गान

0
103

स्कन्दपुराण के आन्त्यखंड के रेवाखंड में गौ की महिमा का गान किया गया है। उसमें गौ माता की महिमा को बहुत ही सहज तरीके से बताया गया है। आइये जानते है, स्कन्दपुराण के गौ माता की महिमा-

ADVT

गाव: प्रदक्षिणी कार्या वन्दनीया हि नित्यश:। मंगलायतनं दिव्या: सृष्टास्त्वेता: स्वयम्भुवा।।
अप्यागाराणि विप्राणां देवतायतनानि च। यद्गोमयेन शुद्धयन्ति किं ब्रूमो ह्यधिकं तत:।।
गो मूत्रं गोमयं क्षीरं दधि सर्पिस्तथ्ौव च। गवां पंच पवित्राणि पुनन्ति सकलं जगत्।।
गावो मे चाग्रतो नित्यं गाव: पृष्ठत एव च। गावो मे हृदये चैव गवां मध्ये वसाम्यहम्।।

भावार्थ- महर्षि आपस्तम्ब राजा नमग से कहते हैं कि हे राजन, गौओं की परिक्रमा करनी चाहिए। वे सदा ही सके लिए वंदनीय हैं। गौएं मंगल का स्थान है। दिव्य रूप हैं। स्वयं जगतपिता ब्रह्माजी ने इन्हें दिव्य गुणों से विभूषित किया है। जिनके गोबर ब्राह्मणों के घर और देवताओं के मंदिर शुद्ध होते हैं। उन गौओं से बढ़कर अन्य किसको बतायें।

गौओं के मूत्र, गोबर, दूध दही और घी ये पांचों वस्तुएं पवित्र हैं। ये पावन वस्तुएं जगत को पवित्र करती हैं। गायें मेरे आगे रहें, गायें मेरे पीछे रहें, गायें मेरे हृदय में रहें और मैं गाओं के मध्यम में निवास करूॅँ।

यह भी पढ़ें – नशे से मुक्ति चाहिए तो करें गाय के दूध का सेवन, गाय के दूध में होता है स्वर्णाक्षर

यह भी पढ़ें – गौ माता करेगी एड्स से रक्षा

यह भी पढ़ें – वैैष्णो देवी दरबार की तीन पिंडियों का रहस्य

यह भी पढ़ें – जानिए, क्या है माता वैष्णवी की तीन पिण्डियों का स्वरूप

यह भी पढ़ें – जाने नवरात्रि की महिमा, सभी मनोरथ सिद्ध करती हैं भगवती दुर्गा

यह भी पढ़ें – भगवती दुर्गा के 1०8 नामों का क्या आप जानते हैं अर्थ

यह भी पढ़ें –नवदुर्गा के स्वरूप साधक के मन में करते हैं चेतना का संचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here