भय से मुक्त होने के अचूक और शक्तिशाली उपाय

0
63

र किसी को भय लगता है, लेकिन कुछ लोगों को कुछ ज्यादा ही डर लगता है। ऐसे लोगों के लिए हम कुछ उपाय सुझा रहे हैं, जो उनके आत्मबल को बढ़ाने वाले साबित हो सकते हैं।
1- जिन व्यक्तियों को अधिक भय लगता है, उन्हें शुद्ध सोने के लॉकेट अथवा अंगूठी में टाईगर स्टोन धारण कर लेना चाहिए। इससे भय का नाश होता है।
2- किसी भी तरह का भय महसूस होता हो तो हनुमान चालीसा का पाठ करें या फिर अपनी अगली वाली जेब में हनुमान चालीसा का गुटका आवश्य रख्ों।
3- हीरा या फिरोजा रत्न यदि किसी भी रूप में शरीर में धारण किया जाए तो किसी भी विष्ौले जन्तु का भय नहीं रहता है।
4- सूर्य उपासना के मध्य सूर्य देव को अध्र्य देने से सभी तरह की चिंता बाधाएं दूर हो जाती है और सुखद भाग्य के द्बार स्वत: खुल जाते हैं।
5- सात शनिवार को सूर्यास्त के पश्चात पीपल की जड़ में जल सींचने से अस्त्र का भय समाप्त हो जाता है।
6- यदि केवड़े की जड़ धारण की जाए तो शत्रु भय नहीं रहता है और मोर पंख घर में रखने से सांप का भय कम होता है।
7- प्रतिदिन रात को सोते समय मुनिराज आस्तीक को बार-बार नमस्कार करने से सर्प भय नहीं रहता है।
8- अगर कोई बालक सोते समय डर जाए या चौंकता हो तो उसके तकिए के नीचे उल्लू का पंख रख दें।
9- अगर दायी भुजा पर आंवले की जड़ अश्लेषा नक्षत्र में धारण की जाए तो मन के सभी भय समाप्त हो जाते है।
1०- यदि आपके मन में अकारण भय और घबराहट बनी रहती है या फिर सदैव मस्तिष्क में नकारात्मक विचारों का प्रवाह चलता रहता है या किसी रूप में आपको सदैव कोई न कोई डर लगा रहता है तो दो श्ोर के नाखून मंगवाकर और उन्हें मंत्र सिद्ध चैतन्यवान और प्राण प्रतिष्ठित करवाकर शुद्ध सोने के लॉकेट में सदैव के लिए अपने गले में धारण कर लें। इस प्रयोग को सम्पन्न करने के पश्चात आपका दिल बेहद सशक्त हो जाएगा। कोई भी भय आपके आसपास नहीं रहेगा।

ADVT

यह भी पढ़ें – इस मंत्र के जप से प्रसन्न होते हैं शनि देव, जानिए शनि देव की महिमा

यह भी पढ़ें – जानिये रत्न धारण करने के मंत्र

यह भी पढ़ें – भगवती दुर्गा के 51 शक्तिपीठ, जो देते हैं भक्ति-मुक्ति, ऐसे पहुचें दर्शन को

यह भी पढ़ें –पवित्र मन से करना चाहिए दुर्गा शप्तशती का पाठ

यह भी पढ़ें –नवदुर्गा के स्वरूप साधक के मन में करते हैं चेतना का संचार

यह भी पढ़ें –भगवती दुर्गा की उत्पत्ति की रहस्य कथा और नव दुर्गा के अनुपम स्वरूप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here