उल्लू देता है भविष्य का संकेत, तंत्र क्रियाओं में होता है उपयोग

0
174

तंत्र क्रियाओं में उल्लू का प्रयोग प्राचीनकाल से होता आ रहा है। हालांकि इसे लेकर अंध विश्वास भी फैला है, इस तरह के भ्रम से दूर रहने की जरूरत है। वैसे तंत्र में उल्लू के रक्त, मल, मूत्र, हृदय, नेत्र, पंख, नख आदि का अलग-अलग उपयोग होता हैं। प्राचीन काल में कथित तौर पर तांत्रिक क्रियाओं में उल्लू सर्वाधिक वांछित पक्षी माना गया और उसके विविध उपयोगिताओं पर विस्तृत ग्रंथ ‘उलूक कल्प’ लिखा गया है।

ADVT

पक्षी तंत्र के अनुसार उल्लू धन के संकेत देने वाला होता है। जिन जगहों पर गड़ा धन या खजाना होता है। वहां उल्लूूू पाए जाते हैं। तंत्र शास्त्रों में उल्लू को धन की रक्षा करने वाला माना जाता है। उल्लू जिस घर या मंदिर में रहने लग जाए तो समझे उस जगह गड़ा धन या खजाना होगा और जहां उल्लू रहने लग जाते हैं, ऐसी जगह जल्दी ही सुनसान व विरान हो जाती है।

चूंकि उल्लू माता लक्ष्मी की सवारी है और माता लक्ष्मी धन व वैभव प्रदान करने वाली देवी है, भगवान विष्णु की पत्नी है और भक्तों के प्रार्थना करने पर उनका कल्याण करती हैं, इसलिए उल्लू का तंत्र क्रियाओं में विश्ोष मान्यता प्रदान की जाती है। उल्लू रात्रि में दिखने वाला पक्षी है और इसका प्रमुख भोजन चूहा होता है। मान्यता यह है कि उल्लू को किसी भी संकट का पूर्वानुमान हो जाता है, इसलिए इसे ‘अपशकुन’ का प्रतीक भी माना गया है। तंत्र क्रियाओं में तो उल्लू की विशिष्ट भूमिका देखी जाती रही है, इसीलिए तांत्रिक तंत्र शक्तियों के लिए अक्सर उल्लू का उपयोग करते रहे हैं। प्राचीन काल में मौसम का हाल जानने के लिए भी उल्लुओं का उपयोग किया जाता था।

ऐसी मान्यता रही है कि उल्लू के पंख अगर सुस्त दिखाई दें तो इसका अर्थ है कि आने वाले कुछ दिनों में तापमान बढ़ने की संभावना है, लेकिन अगर इसके पंखों पर नमी दिखाई दे तो यह वर्षा के आने का संकेत है। यदि उल्लू के पंख बिल्कुल कड़क दिखाई दें तो इसका अर्थ है कि कड़ाके की ठंड पड़ने वाली है। उल्लू गहन अंधकार में भी मनुष्य की आंखों के मुकाबले 1०० गुना अधिक सहजता से देख सकता है। जानकारी के लिए बता दें कि उल्लू की कई प्रजातियां अपने सिर को पूरे 36० डिग्री तक घुमाने में सक्षम होती हैं।

उल्लू की उपस्थिति आपको भविष्य का संकेत देती है, आइये इसे जानते हैं-

1- मान्यता है कि किसी मकान पर उल्लू कई दिन तक आ-आकर बैठता है तो उस घर में किसी अनिष्ट की आशंका प्रबल है।

2- यदि पश्चिम दिशा में पेड़ पर बैठकर बोल रहे उल्लू पर नजर पड़ जाए तो धन की हानि की सूचना है।

3- उल्लू उत्तर दिशा में बैठा बोलता दिखे तो मृत्यु, दुर्घटना या बीमारी का संकेत है।

4- दक्षिण दिशा में प्रात: उल्लू को देखना-सुनना शत्रु हानि, धन लाभ जैसे शुभ का सूचक है।

5- रात्रि की बेला में उल्लू की आवाज यदि पूर्व दिशा से आ रही हो तो माना जाता है कि कल्याणकारी है और अगर पश्चिम, उत्तर या दक्षिण दिशा से आए तो किसी परेशानी की पूर्व सूचना है।

6- यदि प्रस्थान के समय उल्लू दाईं ओर दिखे तो यात्रा निष्फल होने की आशंका है।

7- कहीं जाते समय पीठ पीछे उल्लू हो तो यात्रा सफल होगी, ऐसा माना जाता है।

8- बिना आवाज किए उल्लू रात्रि में बिस्तर पर आ बैठे तो यह विश्वास है कि यदि कोई रोगी हो तो वह शीघ्र स्वस्थ होगा या कोई मांगलिक कार्य शीघ्र होने वाला है।

9- किसी मकान पर उल्लू कई दिन तक आ-आकर बैठता है तो उस घर में किसी अनिष्ट की आशंका प्रबल है।

11-मान्यता है प्रात:काल पूर्व दिशा में वृक्ष पर बैठे उल्लू को बोलते हुए देखने वाले व्यक्ति को धन की प्राप्ति का संकेत है।

12- उल्लू उड़ते समय किसी गर्भवती महिला को छूते हुए गुजर जाए तो इसे महिला को पुत्री होने का संकेत माना जाता है।

13- यदि उल्लू उड़ते समय किसी गंभीर रोगी को छूकर गुजर जाए तो इसका अर्थ है कि वह रोगी बहुत जल्द ठीक हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here